उत्तर प्रदेशबड़ी खबर

महाराष्ट्र में शिवसेना, राकांपा और कांग्रेस का गठबंधन ‘जनता के साथ धोखा’, याचिका दाखिल

वकील के माध्यम से दाखिल इस याचिका में कहा गया है कि, भाजपा (BJP) से गठबंधन कर चुनाव लड़ने वाली शिवसेना (Shiv Sena) के रुख में बदलाव लोगों द्वारा NDA में जताए गए भरोसे के साथ विश्वासघात है.

नई दिल्ली. उच्चतम न्यायालय (Supreme Court) में एक याचिका दायर कर महाराष्ट्र (Maharashtra) में शिवसेना (Shiv Sena), कांग्रेस (Congress) और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP) के बीच चुनाव बाद गठबंधन को सत्ता हासिल करने के लिए मतदाताओं से की गई ‘धोखेबाजी’ घोषित करने की मांग की गई है.

शिवसेना के रुख में बदलाव मतदाताओं द्वारा NDA में जताए गए भरोसे के साथ विश्वासघात है
इस याचिका के अगले कुछ दिनों में सुनवाई के लिए सूचीबद्ध होने की उम्मीद है. याचिका में आरोप लगाया गया है कि भाजपा के साथ मिलकर चुनाव लड़ने वाली शिवसेना के रुख में बदलाव कुछ और नहीं बल्कि मतदाताओं द्वारा राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA) में जताए गए भरोसे के साथ विश्वासघात है.

महाराष्ट्र में मंगलवार को लगा दिया गया राष्ट्रपति शासन
राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी द्वारा केंद्र को भेजी गई उस रिपोर्ट के बाद महाराष्ट्र में मंगलवार को राष्ट्रपति शासन लगा दिया गया जिसमें उन्होंने कहा था कि उनके द्वारा तमाम प्रयास करने के बावजूद राज्य में मौजूदा स्थिति को देखते हुए स्थिर सरकार का गठन असंभव है.

याचिका में केंद्र और राज्य को यह निर्देश देने की मांग की गई है
प्रमोद पंडित जोशी की तरफ से दायर जनहित याचिका में केंद्र और राज्य को यह निर्देश देने की भी मांग की गई है कि वे शिवसेना, कांग्रेस-राकांपा गठबंधन की तरफ से तय किए जाने वाले मुख्यमंत्री की नियुक्त करने से बचें.

अनैतिक है शिवसेना, राकांपा और कांग्रेस का यह कृत्य
अधिवक्ता बरुन कुमार सिन्हा द्वारा दायर की गई याचिका में कहा गया, ‘शिवसेना, राकांपा और कांग्रेस का यह कृत्य अनैतिक और सरकार बनाने के लिए दावे की संवैधानिक योजनाओं के विरोधाभासी हैं….’

सोनिया गांधी से मुलाकात कर सकते हैं शरद पवार
इसके साथ ही गुरुवार को यह संभावना जताई गई कि कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी प्रमुख शरद पवार 17 नवंबर को दिल्ली में मुलाकात कर महाराष्ट्र में सरकार बनाने को लेकर शिवसेना से गठबंधन के मुद्दे पर चर्चा कर सकते हैं. सूत्रों ने अनुसार, कांग्रेस और राकांपा शिवसेना के साथ न्यूनतम साझा कार्यक्रम बनाने पर काम करेंगे, जिस पर सोनिया गांधी और शरद पवार की बैठक के दौरान चर्चा होगी.

This Reports by

Show More

रिपोर्ट- आवाज प्लस डेस्क

हम सब जानते है कि मीडिया संविधान का चौथा स्तंभ है। अतः हमने अपने देश और या इसके लोगों अपनी जिम्मेदारियों या कर्त्तव्यों को समझना चाहिये। मीडिया व्यक्ति विशेष एवं संगठन के रूप में समाज में क्रांति तथा जन जागरण का प्रतीक है। इसलिये हमें ये समझना होगा की हम पर कितनी बड़ी जिम्मेदारी है और हमें किस लिये कार्य करना है। AWAZ PLUS में हम यही करने की कोशिश कर रहे है और बिना एक अच्छी टीम और टीम के सदस्यों के बिना ये संभव नहीं है। अतः मैं गुजारिश करूंगा कि बेहतरी के लिए हमारे साथ शामिल हो। आप सभी को मेरी शुभकामनाएँ !!

Related Articles

Back to top button
error: you are fool !!