खेल-खिलाड़ी

टेस्ट क्रिकेट में बदलाव ही दर्शकों को लाएगा मैदान तक- सौरव गांगुली

कोलकाता। भारत में पहले दिन-रात्रि टेस्ट के आयोजन में अहम भूमिका निभाने वाले बीसीसीआई अध्यक्ष सौरव गांगुली ने कहा कि खेल के पारंपरिक प्रारूप में दिलचस्पी बढ़ाने के लिए ‘कायाकल्प की आवश्यकता है’। भारतीय टीम ने घरेलू मैदान पर इससे पहले दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ टेस्ट श्रृंखला खेली थी जहां मैदान में दर्शकों की काफी कमी रही लेकिन शुक्रवार से शुरू होने वाले दिन रात्रि टेस्ट के पहले तीन दिनों के टिकट बिक चुके हैं।

पिछले महीने बोर्ड अध्यक्ष बनने के बाद भारत में पहले दिन-रात्रि टेस्ट मैच का बीड़ा उठाने वाले गांगुली ने कहा, ‘‘आगे बढ़ने का यही तरीका है, टेस्ट क्रिकेट को कायाकल्प की जरूरत है। यह दुनिया भर में हो रहा है। कहीं से इसे शुरू करना ही था। भारत क्रिकेट के मामले में सबसे बड़ा देश है। मुझे लगता है कि यह बदलाव जरूरी है।’’

बंगाल क्रिकेट संघ (सीएबी) के अध्यक्ष के रूप में गांगुली ने भारत-पाकिस्तान टी20 अंतरराष्ट्रीय मैच के 2016 में धर्मशाला से स्थानांतरित होने के बाद कम समय में सफलतापूर्वक आयोजन किया था।

उन्होंने हालांकि कहा कि दिन रात्रि टेस्ट का आयोजन अधिक चुनौतीपूर्ण है। भारतीय कप्तान ने कहा, ‘‘हमारे पास दर्शकों को मैदान में लाने की चुनौती है। दुनिया के किसी भी कोने में भारत और पाकिस्तान के बीच खेले जाने वाले मैच का स्टेडियम खचाखच भर जाएगा। आप जैसे ही घोषणा करेंगे दर्शक पहुंच जाएंगे।’’

उन्होंने कहा, ‘‘यह (दिन रात्रि टेस्ट) अधिक चुनौतीपूर्ण है। मैं इस बात को लेकर संतुष्ट हूं की पहले तीन दिन के 65,000 टिकट बिक गये हैं।’’ गांगुली ने ईडन गार्डन्स में आधिकारिक गुलाबी गेंद टेस्ट मैच के शुभंकर पिंकू-टिंकू का अनावरण करते हुए कहा, ‘‘कोहली एक महान खिलाड़ी है और उसे दर्शकों से भरे स्टेडियम में खेलना चाहिए। जब ​​वह पहले दिन बल्लेबाजी करने के लिए बाहर निकलेगा तो दर्शकों की भीड़ देखकर खुश होगा। आप ईडन के माहौल को पसंद करेंगे इसलिए यहां आकर देखें।’’

This Reports by

Show More

रिपोर्ट- आवाज प्लस डेस्क

हम सब जानते है कि मीडिया संविधान का चौथा स्तंभ है। अतः हमने अपने देश और या इसके लोगों अपनी जिम्मेदारियों या कर्त्तव्यों को समझना चाहिये। मीडिया व्यक्ति विशेष एवं संगठन के रूप में समाज में क्रांति तथा जन जागरण का प्रतीक है। इसलिये हमें ये समझना होगा की हम पर कितनी बड़ी जिम्मेदारी है और हमें किस लिये कार्य करना है। AWAZ PLUS में हम यही करने की कोशिश कर रहे है और बिना एक अच्छी टीम और टीम के सदस्यों के बिना ये संभव नहीं है। अतः मैं गुजारिश करूंगा कि बेहतरी के लिए हमारे साथ शामिल हो। आप सभी को मेरी शुभकामनाएँ !!

Related Articles

Back to top button
error: you are fool !!