खेल-खिलाड़ी

कोहली ने की गांगुली की तारीफ, गावस्कर बोले- टीम तब भी जीतती थी जब कोहली पैदा नहीं हुए थे

नई दिल्ली: टीम इंडिया ने दूसरे टेस्ट में भी मेहमान बांगालादेश को हराकर टेस्ट सीरीज पर 2-0 से कब्जा किया. इस जीत के बाद टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली ने बीसीसीआई अध्यक्ष सौरभ गांगुली की भी तारीफ करते हुए कहा कि उनके नेतृत्व में भारतीय क्रिकेट में बहुत सारे सकारात्मक बदलाव देखने को मिलेंगे.

कोहली ने मैच के बाद कहा, “वनडे और टी-20 की तरह ही टेस्ट क्रिकेट का मार्केट भी अहम है. यह केवल खिलाड़ियों का काम नहीं है. लेकिन इसे क्रिकेट बोर्ड और घरेलू प्रसारणकर्ता से भी दूर ले जाने की जरूरत है.” कोहली ने गांगुली की तारीफ करते हुए कहा कि देश में खेल की बेहतरी के लिए बीसीसीआई प्रमुख अच्छा काम कर रहे हैं.

हालांकि कोहली की इस बात पर पूर्व क्रिकेटर सुनील गवास्कर ने कहा है कि ऐसा नहीं है, टीम तब भी जीतती थी जब कोहली का जन्म भी नहीं हुआ था.

मैच खत्म होने के बाद उन्होंने कहा, ” यह एक बेहतरीन जीत है. भारतीय कप्तान ने कहा कि यह चीजें साल 2000 में शुरू हुआ जब गांगुली टीम के कप्तान थे. मुझे पता है दादा बीसीसीआई के अध्यक्ष हैं और इसलिए शायद कोहली उनके बारे में अच्छा बोलना चाहते हो, लेकिन भारत 1970 और 1980 में भी जीतता था जब कोहली पैदा भी नहीं हुए थे.” उन्होंने कहा,” कई लोग अब भी सोचते हैं कि क्रिकेट साल 2000 में शुरू हुआ, जबकि भारतीय टीम ने विदेशी धरती पर 1970 के दशक में भी सीरीज जीता था. टीम 1986 में भी जीती थी.

क्या कहा था कोहली ने गांगुली के लिए
कप्तान कोहली ने गांगुली के लिए कहा था, “दादा (गांगुली) के साथ साथ सभी मामलों पर विचार करने के लिए दरवाजे खुले हैं. वह एक टीम के रूप में हमारे विचारों को समझने के लिए उपलब्ध हैं. वह टेस्ट क्रिकेट की बेहतरी के लिए काम कर रहे हैं और और इससे भारतीय क्रिकेट मजबूत होगा.” उन्होंने कहा, “हम सही दिशा में आगे बढ़ हैं. उनके नेतृत्व में हमें अधिक सकारात्मक बदलाव देखने को मिलेंगे जोकि क्रिकेट के लिए खास होगा. साथ ही टेस्ट क्रिकेट को प्राथमिकता दी जाएगी.”

This Reports by

Show More

रिपोर्ट- आवाज प्लस डेस्क

हम सब जानते है कि मीडिया संविधान का चौथा स्तंभ है। अतः हमने अपने देश और या इसके लोगों अपनी जिम्मेदारियों या कर्त्तव्यों को समझना चाहिये। मीडिया व्यक्ति विशेष एवं संगठन के रूप में समाज में क्रांति तथा जन जागरण का प्रतीक है। इसलिये हमें ये समझना होगा की हम पर कितनी बड़ी जिम्मेदारी है और हमें किस लिये कार्य करना है। AWAZ PLUS में हम यही करने की कोशिश कर रहे है और बिना एक अच्छी टीम और टीम के सदस्यों के बिना ये संभव नहीं है। अतः मैं गुजारिश करूंगा कि बेहतरी के लिए हमारे साथ शामिल हो। आप सभी को मेरी शुभकामनाएँ !!

Related Articles

Back to top button
error: you are fool !!